Mahakal Shiv Darshan Prapti Shabar Mantra


शिव प्रत्यक्षीकरण शाबर मन्त्र 

 

This Shabar mantra is the mantra to get the Darshan of Lord Shiva. This is the practice of attaining Shiva's manifestation in life. Lord Shiva should appear in front of us and whatever wish we wish to have is fulfilled by this mantra sadhna. This is the Shabar mantra composed by Ravana. This mantra is very ancient and was preached by Gorakhnath. Anangpal, Ravana's disciple, was the first to prove this mantra. 

 

This is the Shabar Sadhana of Lord Shiva and Lord Shiva manifests himself in it and offers boon. This is an 11-day practice. And you have to chant the 51 Mala Mantra every day with the energized rosary of the Rudraksha. There is no need to put incense sticks and lamps in this sadhna. There is no need for any other obligations.

 

यह शाबर मन्त्र शिव को सिद्ध करने का मंत्र है | यह शिव का सान्निध्य प्राप्त करने की साधना है | शिव हमारे सामने प्रकट हों और हम जो भी इच्छा करें वह पूर्ण हो | यह रावण कृत शाबर मंत्र है | यह मंत्र अत्यंत प्राचीन है और इसका प्रचलन गोरखनाथ नें किया | रावण के शिष्य अनंगपाल ने सबसे पहले इस मन्त्र को सिद्ध किया था | यह भगवान् शिव की शाबर साधना है और इसमें भगवान् शिव स्वयं प्रकट हो कर के सान्निध्य प्रदान करते है और प्रत्यक्ष दर्शन देने की साधना है |

 

यह 11 दिन की साधना है | और नित्य 51 माला मंत्र जाप करना है प्राण प्रतिष्ठित रुद्राक्ष की माला से | इसमें अगरबत्ती और दीपक लगाने की ज़रूरत नहीं है | और अन्य किसी विधि विधान की ज़रूरत नहीं है |

 

How To Perform the Mahakal Shiv Darshan Prapti Mantra Sadhna

 

This mantra is a mantra to manifest Lord Shiva. It is important to keep 3 things in mind in this practice. One, it is very important to have a garland of Rudraksha around the neck. And Rudraksha should be worn all over the body especially 5 places are necessary for wearing - on the head, neck, both arms and at the waist. 101 rudraksh or 1000 rudraksh should be worn in the body. This makes the body completely bound for this practice. Otherwise you can also wear a small Rudraksha garland around your neck.

 

Make a Shiva lingam in front of you with any substance or clay. Then prove with the mantras of Sanjeevani Kriya. Do not wear any clothes above the navel. The dhoti should be worn below the navel.

 

यह मंत्र भगवान शिव को प्रत्यक्ष करने का मन्त्र है | इस साधना में 3 बातें ध्यान में रखना जरूरी है | एक तो उसके गले में रुद्राक्ष की माला होनी बहुत जरूरी है | और  रुद्राक्ष को पुरे शरीर पर धारण कर लेना चाहिए | धारण करने में 5 स्थान जरूरी है - सिर पर, गले में, दोनों भुजाओं में और कमर पर | 101 रुद्राक्ष या 1000 रुद्राक्ष शरीर में धारण करना चाहिए | इससे शरीर पूर्णत: आबद्ध हो जाता है इस साधना के लिए | अन्यथा आप एक छोटी सी रुद्राक्ष की माला भी गले में पहन सकते हैं |

 

अपने सामने भगवान् शिव का मृत्तिका से किसी भी पदार्थ से शिवलिङ्ग बनायें | फिर उसे मन्त्र सिद्ध कर लें संजीवनी क्रिया से | नाभि से ऊपर कोई भी वस्त्र न पहने | नाभि से नीचे धोती पहनी होनी चाहिए | 

 

Mahakal Shiv Darshan Prapti Mantra

 

ॐ नमो आदेश वीर वैताल हुंकार टंकार शंकार हंकार धूर्जटा दीप्ता गोरा कपालिक भैरो वैताल दिन भर दुर्मुख एकादश रुद्राय आवै

नृत्य करे आकाश चीरे पृथ्वी समाय दश दिशा डोले महाकाल शिव प्रकट भाय वर दे सिद्ध करे न करे

तो माँ पार्वती की दुहाई अनंगपाल वाचा सिद्ध करो मन्त्र साचा ठं ठं स्वाहा |

 

om namo aadesh veer vaitaal hunkaar tankaar shankaar hankaar dhoorjata deepta gora kapaalik bhairo vaitaal din bhar durmukh ekaadash rudraay aavai

nrtya kare aakaash cheere prthvee samaay dash disha dole mahaakaal shiv prakat bhaay var de siddh kare na kare

to maan paarvatee kee duhai anangapaal vaacha siddh karo mantr saacha tham tham svaaha 

 

Click Here For The Audio of Mahakal Shiv Darshan Prapti Mantra


 Contact WhatsApp

Published on Mar 3rd, 2021


Do NOT follow this link or you will be banned from the site!