Sidh Kunjika Stotra Ko Kabh Aur Kaise Sidh Karen


Sidh Kunjika Stotram
सिद्ध कुंजिका स्तोत्र को कैसे और कब सिद्ध करें |

 

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र भगवती चामुंडा का एक प्रसिद्ध और  दिव्य स्तोत्र है | जो साधक जीवन में आर्थिक और आद्यात्मिक प्रगति चाहते हैं उन्हें देवी के इस पावन स्तोत्र  का अवश्य पाठ करना चाहिए | अगर साधक किसी कारणवश दुर्गा सप्तशती का पठन नहीं कर सकते उनके  लिए यह चमत्कारी स्तोत्र एक वरदान के समान है |  कुंजिका स्तोत्र जीवन के सभी शुभ द्वारो को खोलने की  गुप्त कुंजी है | 

 

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ किस समय किया जाना चाहिए | प्रत्येक तिथि का समय काल 24 घंटे का होता है | अगर नवमी तिथि सुबह 7:00 am बजे शुरू होती है तो  साधक को इस स्तोत्र का पाठ सुबह 6:36 am से शुरू  करना चाहिए और 7:24 am तक इस का पाठ समाप्त  करना चाहिए | यह समय संधि क्षण कहलाता है और  बहुत ही पवित्र समय है | अगर नवरात्रि में इस समय  में पाठ कर लिया जाय तो यह स्तोत्र सिद्ध हो जाता है  और साधक को देवी से वर की प्रप्ति होती है | 

 

Sidh Kunjika Stotram Text

सिद्धकुञ्जिकास्तोत्रम् ॥
श्री गणेशाय नमः ।
ॐ अस्य श्रीकुञ्जिकास्तोत्रमन्त्रस्य सदाशिव ऋषिः, अनुष्टुप् छन्दः,
श्रीत्रिगुणात्मिका देवता, ॐ ऐं बीजं, ॐ ह्रीं शक्तिः, ॐ क्लीं कीलकम्,
मम सर्वाभीष्टसिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः ।

शिव उवाच ।
शृणु देवि प्रवक्ष्यामि कुञ्जिकास्तोत्रमुत्तमम् ।
येन मन्त्रप्रभावेण चण्डीजापः शुभो भवेत् ॥ १॥

न कवचं नार्गलास्तोत्रं कीलकं न रहस्यकम् ।
न सूक्तं नापि ध्यानं च न न्यासो न च वार्चनम् ॥ २॥

कुञ्जिकापाठमात्रेण दुर्गापाठफलं लभेत् ।
अति गुह्यतरं देवि देवानामपि दुर्लभम् ॥ ३॥

गोपनीयं प्रयत्नेन स्वयोनिरिव पार्वति ।
मारणं मोहनं वश्यं स्तम्भनोच्चाटनादिकम् ।
पाठमात्रेण संसिद्ध्येत् कुञ्जिकास्तोत्रमुत्तमम् ॥ ४॥

अथ मन्त्रः ।
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ।
ॐ ग्लौं हुं क्लीं जूं सः ज्वालय ज्वालय ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल
ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट् स्वाहा ॥ ५॥

नमस्ते रुद्ररूपिण्यै नमस्ते मधुमर्दिनि ।
नमः कैटभहारिण्यै नमस्ते महिषार्दिनि ॥ ६॥

नमस्ते शुम्भहन्त्र्यै च निशुम्भासुरघातिनि ।
जाग्रतं हि महादेवि जपं सिद्धं कुरूष्व मे ॥ ७॥

ऐङ्कारी सृष्टिरूपायै ह्रीङ्कारी प्रतिपालिका ।
क्लीङ्कारी कामरूपिण्यै बीजरूपे नमोऽस्तु ते ॥ ८॥

चामुण्डा चण्डघाती च यैकारी वरदायिनी ।
विच्चे चाभयदा नित्यं नमस्ते मन्त्ररूपिणि ॥ ९॥

धां धीं धूं धूर्जटेः पत्नी वां वीं वूं वागधीश्वरी ।
क्रां क्रीं क्रूं कालिका देवि शां शीं शूं मे शुभं कुरु ॥ १०॥

हुं हुं हुङ्काररूपिण्यै जं जं जं जम्भनादिनी ।
भ्रां भ्रीं भ्रूं भैरवी भद्रे भवान्यै ते नमो नमः ॥ ११॥

अं कं चं टं तं पं यं शं वीं दुं ऐं वीं हं क्षं ।
धिजाग्रम् धिजाग्रं त्रोटय त्रोटय दीप्तं कुरु कुरु स्वाहा ॥ १२॥

पां पीं पूं पार्वती पूर्णा खां खीं खूं खेचरी तथा ।
सां सीं सूं सप्तशती देव्या मंत्रसिद्धिं कुरूष्व मे ॥ १३॥

इदं तु कुञ्जिकास्तोत्रं मन्त्रजागर्तिहेतवे ।
अभक्ते नैव दातव्यं गोपितं रक्ष पार्वति ॥ १४॥

यस्तु कुञ्जिकया देवि हीनां सप्तशतीं पठेत् ।
न तस्य जायते सिद्धिररण्ये रोदनं यथा ॥ १५॥

। इति श्रीरुद्रयामले गौरीतन्त्रे शिवपार्वतीसंवादे
कुञ्जिकास्तोत्रं सम्पूर्णम् ।


Click Here For The Audio & Text of siddh Kunjika Stotra

Important: You are Advised to recieve Deeksha or permission from Guruji to get the best results. Follow Some Basic Guidelines To Ensure Success In  Mantra Sadhna. E-Mail us  for any queries or problems related to life. Read FAQs related to sadhnas.


Published on May 10th, 2019

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!